Archive for જૂન, 2013

बेवफ़ाई की भी एक सज़ा होती हे


ए हुसने बे-परवाह, बेवफ़ाई की भी एक सज़ा होती हे,
जाने ये तू या नाज़ाने, कत्ल की भी एक वज़ा होती हे!!!

Advertisements

બદનસીબો કી બદનસીબી


बदनसीबो की बदनसीबी ये हे,
के वो खुद लूटे हुवे हे,
और फिर उसे लूटेरे मुल्ते हे.

दीवानो की दीवानगी की सज़ा ये हे,
के वो जानते हे के,
उनका सनम बेवफा हे.

दर्दिल (महेश चावडा)