Archive for ઓગસ્ટ, 2012

उनको ये बताना के बड़ी देर से इंतज़ार मे हे कोई


उनको ये बताना के बड़ी देर से इंतज़ार मे हे कोई,
पर ये ना बताना के देर हुई कितनी !!!

कहना के महोब्बत हे उनसे,
पर ये ना बताना के कितनी !!!

ये आखरी पैगाम हे हमारा उनको, हमारी मोत हो गई,
पर ये ना बताना के कैसे हुई !!!

उनको हमसे महोब्बत हे इतनी,
वो जी जाएँगे हमारे बिना पूरी ज़िंदगी!
पर ना जान पाएँगे उम्र हुई कितनी !!!

– दर्दिल (महेश चावडा)

Advertisements

રે ભટક્યો


રે ભટક્યો! ના ચાલ્યો ધર્મની રાહ.
હવે કોઈ ના સાંભળે મારી આહ!!

હાયકુ (મહેશ ચાવડા)